बिंदु रम्मी परियोजना

बिंदु रम्मी परियोजना

time:2021-10-28 20:13:53 बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद? Views:4591

क्लासिक रम्मी प्लस ऐप डाउनलोड बिंदु रम्मी परियोजना betway रेफर अ फ्रेंड इंडिया,लियोवेगास फ़िनलैंड,lovebet 9ja वीआईपी आज,lovebet एल 'आवेदन,lovebet वा,एक कैसीनो रिसॉर्ट,बैकरेट कैसीनो पुराने हजारों,बकारट रोड सिंगल यूज,bet365 लिंक,मोबाइल पर नकद रम्मी,कैसीनो क्विम्पर,शतरंज वाई रॉविन कैप 1,क्रिकेट f/o अर्थ,दिन ट्रैक्टर कैसीनो,यूरोपीय कप बाधाओं और एशियाई बाधा,फ़ुटबॉल ग्रुप मैच पॉइंट नियम,गेमिंग एक्सचेंज,एचबी क्रिकेट,ऋण निकासी प्रक्रिया,जैकपॉट गेम्स एक्सबॉक्स,लाइव बैकरेट कार्यक्रम,लाइव रूले लैडब्रोक्स,लॉटरी राजल,मोबाइल बैकरेट,ऑनलाइन कैसीनो क्रेडिटकार्ट,ऑनलाइन मकाऊ कैसीनो Wynn Bo,ऑनलाइन टेक्सास होल्डम,पोकर या फ्लॉप,पूल रम्मी ब्रिटेन,राजकीय कैरिबियन,रमी मोबाइल वीडियो,s'incribe सुर लवबेट एन फ्रांस,स्लॉट ट्रैकर,स्पोर्ट्स एक्स जूते,तीन पत्ती जीत,पोकर क्लब,वा खेल,विश्व कप क्वालीफायर शेड्यूल,आईपीएल कब से शुरू है 2021,कैप्टन का खजाना,खेलो पर जुआ result,जोकर धूम,फुटबॉल गोल पोस्ट की ऊंचाई,बेटा के जोक,लाल बाबा,स्पेस उडीसी, .बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है.
कविता मानती हैं कि निवेश का फैसला काफी जांच-परख के बाद ही करना चाहिए. इसके लिए सभी उपलब्ध विकल्पों की समीक्षा जरूरी है. लिहाजा, 8 साल की बेटी के लिए निवेश शुरू करने से पहले वह निवेश के रिटर्न, ब्‍याज दर, जोखिम, समयावधि जैसी बातों का ख्‍याल रखना चाहती हैं. पूंजी बढ़ाने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) और पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) को सबसे सुरक्षित निवेश विकल्प माना जाता है. कविता इन दोनों विकल्पों की तुलना करना चाहती हैं. उन्हें पता है कि दोनों पर सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक टैक्‍स बेनिफिट उपलब्‍ध है. हालांकि, एसएसवाई पर ब्‍याज दर पीपीएफ की तुलना में अमूमन 0.5 फीसदी ज्यादा होती है. वह सोच में पड़ी हैं कि क्‍या एसएसवाई बेहतर विकल्प है.

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है. इस स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है. खाता खुलने के बाद से बेटी के 21 साल का पूरा होने पर अकाउंट मैच्‍योर होता है. मैच्‍योरिटी तक ब्‍याज अर्जित करने के लिए खाता खुलने की तारीख से कविता को बेटी के 15 साल का होने तक हर साल न्‍यूनतम निवेश करने की जरूरत पड़ेगी. लेकिन, एसएसवाई में उनका पूरा पैसो बेटी के 18 साल का होने तक लॉक रहेगा. सच तो यह है कि बेटी के 18 साल का होने के बाद भी कविता निवेश का सिर्फ 50 फीसदी ही निकाल पाएंगी. बाकी की रकम वह तभी निकाल पाएंगी जब वह 21 साल की होगी.

इसे भी पढ़ें : मुझे रिटायरमेंट के लिए 19 साल में ₹1.24 करोड़ जुटाने हैं, कैसे प्लानिंग करूं?

सुकन्‍या समृद्धि योजना में अक्‍सर ब्‍याज की दर ज्‍यादा होती है. इसका कारण है कि यह स्‍कीम कविता जैसे माता-पिता को बेटी के भविष्‍य के लिए पैसा जुटाने को प्रोत्‍साहित करने के लिए है. हालांकि, डिपॉजिट बेटी के 15 साल का होने तक किया जा सकता है. 16वें साल से 21वें साल के बीच किसी डिपॉजिट की अनुमति नहीं है. हालांकि, अकाउंट पर ब्‍याज 21 साल तक मिलना जारी रहता है. लिहाजा, पैसे को लॉक होने के बावजूद 15 साल से आगे निवेश पर बंदिश है. यह पूंजी के जुटने की क्षमता पर रोक लगाता है.

दूसरी ओर पीपीएफ कविता को निवेश की अवधि पर बंदिशों के बगैर टैक्‍स-फ्री इंटरेस्‍ट अर्जित करने की सहूलियत देता है. इसमें लॉक-इन अवधि छोटी है और लंबी अवधि तक निवेश किया जा सकता है. पीपीएफ के ये फीचर कंपाउंडिंग अवधि के मामले में एसएसवाई जैसे ब्‍याज देने वाले प्रोडक्‍टों के फायदे को न्‍यूट्रलाइज करते हैं.

इसे भी पढ़ें : कैसा है फ्रैंकलिन इंडिया इक्विटी एडवांटेज फंड का 5 साल का रिपोर्ट कार्ड?

लिहाजा, कविता के निवेश का फैसला ज्‍यादा ब्‍याज दर से ही प्रभावित नहीं होना चाहिए. उनके पास सुकन्‍या समृद्धि में निवेश के लिए अपेक्षाकृत कम समय (7 साल) है. यह शायद उन्‍हें कंपाउंडिंग का उतना ज्‍यादा फायदा न लेने दे. कविता की बेटी की उम्र अगर और कम होती तो एसएसवाई वाकई शानदार विकल्‍प था. यह उन्‍हें स्‍कीम में निवेश के लिए ज्‍यादा समय देता. उस स्थिति में वह पीपीएफ की तुलना में ज्‍यादा पैसा जुटा पातीं.

इस पेज की सामग्री सेंटर फॉर इंवेस्टमेंट एजुकेशन एंड लर्निंग (सीआईईएल) के सौजन्य से. गिरिजा गादरे, आरती भार्गव और लब्धि मेहता का योगदान.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

Sukanya Samriddhi Yojanaसुकन्‍या समृद्ध‍ि योजनान‍िवेशबेटी के लिए बचतटैक्‍स बेनिफिटपीपीएफ

ETPrime stories of the day

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis
Logistics

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis

4 mins read
China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.
R&D

China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.

9 mins read
As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles
Insurance

As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles

11 mins read

मुंबई, 28 अक्टूबर (भाषा) बीएसई सेंसेक्स बृहस्पतिवार को 1,159 अंक लुढ़क गया। वैश्विक स्तर पर कमजोर रुख के बीच मासिक वायदा एवं विकल्प खंड में सौदों के निपटान के अंतिम दिन चौतरफा बिकवाली से यह गिरावट आयी। तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 1,158.63 अंक यानी 1.89 प्रतिशत का गोता लगाकर 59,984.70 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 353.70 अंक यानी 1.94 प्रतिशत लुढ़क कर 17,857.25 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में आईटीसी 5 प्रतिशत से अधिक की गिरावट के साथ सर्वाधिक नुकसान में रहा। इसके अलावा, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक बैंक, एक्सिस बैंक, एसबीआईनयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) मजबूत हाजिर मांग के बीच सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे स्थानीय वायदा बाजार में बृहस्पतिवार को सोने का भाव 18 रुपये बढ़कर 47,980 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में दिसंबर महीने की डिलिवरी के लिये सोने की कीमत 18 रुपये यानी 0.04 प्रतिशत बढ़कर 47,980 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 10,402 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर न्यूयार्क में सोने की कीमत 0.27 प्रतिशत की तेजीमजबूत हाजिर मांग से निकेल वायदा कीमतों में तेजी

साल में कम से कम एक निवेश की समीक्षा जरूर करें और दोबारा संतुलन बनाएं. अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इंश्‍योरेंस खरीदें.नयी दिल्ली 28 अक्टूबर (भाषा) बजाज फिनसर्व ने बृहस्पतिवार को बताया कि तीस सितंबर को समाप्त चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में उसका एकीकृत शुद्ध लाभ 14 प्रतिशत बढ़कर 1,122 करोड़ रुपये रहा। एक साल पहले इसी तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 986 करोड़ रुपये था। बजाज फिनसर्व ने एक विज्ञप्ति में बताया कि जुलाई-सितंबर, 2021 तिमाही में कंपनी की एकीकृत कुल आय बढ़कर 18,008 करोड़ रुपये हो गई, जो इससे पिछले की इसी तिमाही में 15,052 करोड़ रुपये थी। कंपनी ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कोविड-19 की दूसरी लहर सेहाजिर मांग से सोना वायदा कीमतों में तेजी

समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.मुंबई, 28 अक्टूबर (भाषा) वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (डब्ल्यूजीसी) ने एक रिपोर्ट में कहा कि भारत में आर्थिक गतिविधियों में जोरदार उछाल और उपभोक्ता मांग में सुधार के चलते सोने की मांग जूलाई-सितंबर तिमाही के दौरान सालाना आधार पर 47 प्रतिशत बढ़कर 139.1 टन हो गई। डब्ल्यूजीसी के मुताबिक भारत में सोने की मांग कोविड से पहले के स्तर पर वापस आ गई है और आगे तेजी बनी रहने की उम्मीद है। ‘स्वर्ण मांग प्रवृत्ति, 2021’ शीर्षक से जारी रिपोर्ट में कहा गया कि 2020 की सितंबर तिमाही के दौरान देश में सोने की कुल मांग 94.6 टन थी। मूल्य केपेटीएम का आईपीओ आठ नवंबर को खुलेगा, मूल्य दायरा 2,080-2,150 रुपये तय

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
फॉर्च्यून मत्स्य पालन

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) लिंक्डइन के एक अध्ययन में कहा गया कि महामारी के बाद भारत में ज्यादातर व्यापारिक प्रमुख अधिक लचीलेपन की पेशकश करने के लिए दबाव महसूस कर रहे हैं और सक्रिय रूप से नई कार्यस्थल नीतियां बना रहे हैं। यह कर्मचारियों को इस बात की अधिक सुविधा देती हैं, कि वे कैसे काम करते हैं और कहां से काम करते हैं। लिंक्डइन ‘फ्यूचर ऑफ वर्क’ अध्ययन के अनुसार भारत में 80 फीसदी व्यापारिक प्रमुख महामारी के बाद अधिक लचीला रुख अपनाने का दबाव महसूस कर रहे हैं और इस दवाब में कर्मचारियों, प्रबंधकों और सरकार, तीनों का

lovebet ज़रागोज़ा

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

लाइव रूले नियम

मुंबई, 28 अक्टूबर (भाषा) शेयर बाजार में भारी गिरावट के बावजूद कच्चे तेल की कीमतों के नरम पड़ने से अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में बृहस्पतिवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया 11 पैसे की तेजी के साथ 74.92 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 74.92 रुपये पर खुला तथा कारोबार के दौरान यह 74.76 से 74.94 रुपये के दायरे में रहा। अंत में यह पिछले कारोबारी सत्र के बंद भाव के मुकाबले 11 पैसे की तेजी के साथ 74.92 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। बुधवार को रुपया सात पैसे की गिरावट के साथ

खेल विश्व कप लॉटरी परिणाम

Indian Railways: त्योहारी भीड़ के दौरान बर्थ की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए नियमित ट्रेनों में डिब्बों की संख्या में वृद्धि की जा रही है। रेल मार्गों पर देश भर के प्रमुख स्थलों को जोड़ने के लिए विशेष ट्रेनों की योजना बनाई गई है।

बैकरेट फेंग गेंग्युन प्ले

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुमूल्य धातुओं की कीमतों में सुधार के बीच राष्ट्रीय राजधानी के सर्राफा बाजार में बृहस्पतिवार को सोना 112 रुपये की तेजी के साथ 47,050 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी। इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोना 46,938 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। इसके विपरीत, चांदी की कीमत 203 रुपये की गिरावट के साथ 63,767 रुपये प्रति किलोग्राम रह गयी। पिछले कारोबारी सत्र में यह 63,970 रुपये प्रति किलो के भाव पर बंद हुई थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना गिरावट के साथ 1,803 डॉलर

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
रम्मीकल्चर न्यूनतम निकासी

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) जाने माने उद्योगपति मुकेश अंबानी की बेटी और रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड (जियो) की निदेशक ईशा अंबानी को वाशिंगटन स्थित स्मिथसोनियन नेशनल म्यूजियम ऑफ एशियन आर्ट के न्यासी बोर्ड में शामिल किया गया है। संग्रहालय ने एक बयान में कहा कि स्मिथसोनियन के बोर्ड ऑफ रीजेंट्स ने अंबानी और दो अन्य लोगों - कैरोलिन ब्रेहम और पीटर किमेलमैन की नियुक्ति को मंजूरी दी। उनका कार्यकाल चार साल के लिए है और ये नियुक्ति 23 सितंबर से प्रभावी है। अमेरिका के मुख्य न्यायाधीश, अमेरिका के उपराष्ट्रपति, अमेरिकी सीनेट के तीन सदस्यों, अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के तीन सदस्यों