चाँद पर खेल

Publishing time:2021-10-28 19:14:14

स्पोर्ट्सबुक टेक्सास चाँद पर खेल 10cric ऑफ़र,casumo डाउन,लियोवेगास क्यू1 2019,lovebet ब्रांड एंबेसडर,lovebet नेवादा,lovebet यॉर्क,एल्ड्स बेस्ट ऑफ़ पाँच या सात,बैकरेट फेंग स्टाइल,बैकारेट ट्रिक्स,बेटिंग जॉब्स इंडिया,कैसीनो और रिसॉर्ट,कैसीनो यू ऐप,क्लासिक रम्मी प्लस ऐप डाउनलोड APK,क्रिकेट जर्सी डिजाइन नया मॉडल,ई लॉटरी पोर्टल आबकारी विभाग,यूरोपीय फुटबॉल कार्यक्रम,फुटबॉल नेविगेशन नेटवर्क,उत्पत्ति कैसीनो कोई जमा नहीं,बैकारेट की सड़क कैसे लिखी जाती है,आईपीएल जर्सी निर्माता,जैकपॉट सिंडिकेट गेम्स,लाइव लाठी पोकरस्टार,लाइव वीडियो साइट,लॉटरी क्रिसमस दिवस 2019,एनबीए विश्लेषण नेटवर्क,ऑनलाइन कैसीनो यूएसए कोई जमा बोनस नहीं,हम में ऑनलाइन पोकर,android के लिए parimatch,पोकर हैंड रैंकिंग,आर/पोकर,नियम परिभाषा कानून,रम्मी वेरिएंट क्रॉसवर्ड क्लू,स्लॉट मशीन कैसे जीतें,स्पोर्ट्स 360 ट्विटर,स्पोर्ट्सबुक हर्रा के न्यू ऑरलियन्स,टेक्सास होल्डम जुएगो,शीर्ष 5 यूरोपीय फुटबॉल लीग,सबसे विश्वसनीय लाइव रूले क्या है,एक्स-बैकारेट,इलेक्ट्रॉनिक खेल zina,क्या कोई फ़ुटबॉल ऑनलाइन गेम हैं?,गोवा का सबसे सस्ता होटल,ठेका गोवा,फुटबॉल विश्व कप,बेटा या बेटी के लक्षण,लॉटरी टिकट ऑनलाइन 2021,स्पोर्ट्स हॉटस्टार .कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है.
मुंबई : पिछले कुछ महीनों में कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में काम करने वाले वर्कर्स की न्‍यूनतम दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी है. ये रियल एस्‍टेट, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, सीमेंट, स्‍टील, सड़क एवं हाईवे और शहरी विकास परियोजनाओं में काम करते हैं. मजदूरी में बढ़ोतरी की वजह लेबरों की कमी है. कंपनियों ने अपने पुराने प्रोजेक्‍टों को पूरा करने के लिए काम की रफ्तार बढ़ाई है.

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है. इस सेक्‍टर में करीब 5 करोड़ लोग काम करते हैं. मानव संसाधन प्रबंधन फर्म बेटरप्‍लेस के अनुमान के अनुसार, महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

मजदूरों को सबसे ज्‍यादा रोजगार कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मिलता है. यह सेक्‍टर काफी कुछ असंगठित है. ज्‍यादातर वर्कर्स दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते हैं. बेटरप्‍लेस के सीओओ सौरभ टंडन ने कहा कि लेबर की किल्‍लत के चलते कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मजदूरी बढ़ी है. कंपन‍ियां तेजी से अपनी लंबित परियोजनाओं को पूरा करना चाहती हैं.

टॉप एग्‍जीक्‍यूटिव्‍ज के अनुसार, कुशल कामगारों की भारी किल्‍लत है. कारण है कि महामारी के बाद बड़ी संख्‍या में मजदूर अपने-अपने घरों से वापस नहीं लौटे हैं. रियल एस्‍टेट डेवलपर हीरानंदानी ग्रुप के एमडी निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि हम बाहर से कुशल कारीगरों को लाने की कोशिश कर रहे हैं. ये ज्‍यादा मजदूरी की मांग करते हैं. इससे कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में औसत मजदूरी बढ़ी है. कुशल श्रमिकों की कमी सिर्फ रियल एस्‍टेट की समस्‍या नहीं है, बल्कि यह दिक्‍कत हर सेक्‍टर की है. बहुत कम लोगों के पास काम की कुशलता होती है.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍टों के बिल्‍डर केईसी इंटरनेशनल के सीईओ विमल केजरीवाल ने कहा कि फिटर और कारपेंटर जैसे कुशल कामगारों की मजदूरी 10-20 फीसदी बढ़ गई है. काम ज्‍यादा है. लंबित परियोजनाओं को पूरा करने का दबाव है. सभी साइटों पर पूरी क्षमता के साथ काम हो रहा है.

इंडस्‍ट्री के जानकार कहते हैं कि मध्‍यम और छोटे संस्‍थान जिनमें लॉकडाउन की शुरुआत में वर्कर्स को रोक पाने की क्षमता नहीं थी, उन्‍हें लेबरों को मंगाने में ज्‍यादा खर्च करना पड़ रहा है. कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर की बड़ी कंपनियों ने खाने-पीने और रहने की व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध कराकर अपने वर्कर्स को बनाए रखा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

द‍िहाड़ी मजदूरीमजदूरी में इजाफान्‍यूनतम द‍िहाड़ीकंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टरलेबरों की किल्‍लत

ETPrime stories of the day

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis
Logistics

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis

4 mins read
China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.
R&D

China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.

9 mins read
As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles
Insurance

As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles

11 mins read
कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) बिल गेट्स का नाम किसी परिचय का मोहताज नहीं है। 28 अक्टूबर, 1955 को वाशिंगटन में जन्मे बिल ने वर्ष 1975 में पाल एलन के साथ मिलकर साफ्टवेयर कम्पनी माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना की। तब कौन जानता था कि यह देखते ही देखते दुनिया की सबसे बड़ी साफ्टवेयर कंपनी बन जाएगी और गेट्स पर्सनल कंप्यूटर के क्षेत्र में क्रान्ति के अग्रदूत बनेंगे। उनकी तरक्की की रफ्तार का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 32 साल पूरे होने के पहले ही 1987 में उनका नाम अरबपतियों की फ़ोर्ब्स की सूची में आ गया और कईनयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) फ्यूचर रिटेल और उसके प्रवर्तकों ने सिंगापुर के मध्यस्थता न्यायाधिकरण एसआईएसी द्वारा रिलायंस रिटेल के साथ उसके 24,713 करोड़ रुपये के सौदे पर रोक लगाने संबंधी आदेश पर स्थगन और उसे निरस्त करने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया है। एसआईएसी ने 21 अक्टूबर को यह आदेश दिया था। सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र (एसआईएसी) ने 21 अक्टूबर को फ्यूचर रिटेल लिमिटेड (एफआरएल) की उस याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें रिलायंस के साथ सौदे पर पिछले साल 25 अक्टूबर को एसआईएसी के आपात मध्यस्थ (इमरजेंसी आर्बिट्रेटर) द्वारा लगायी गयी अंतरिम रोक को हटानेपीने के लिए साफ पानी की जरूरत: पेप्सिको फाउंडेशन और वाटरऐड कैसे बदल रहे भारत की तस्वीर

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.नेशनल रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां : सीआईआई

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) बिल गेट्स का नाम किसी परिचय का मोहताज नहीं है। 28 अक्टूबर, 1955 को वाशिंगटन में जन्मे बिल ने वर्ष 1975 में पाल एलन के साथ मिलकर साफ्टवेयर कम्पनी माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना की। तब कौन जानता था कि यह देखते ही देखते दुनिया की सबसे बड़ी साफ्टवेयर कंपनी बन जाएगी और गेट्स पर्सनल कंप्यूटर के क्षेत्र में क्रान्ति के अग्रदूत बनेंगे। उनकी तरक्की की रफ्तार का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 32 साल पूरे होने के पहले ही 1987 में उनका नाम अरबपतियों की फ़ोर्ब्स की सूची में आ गया और कईबीजिंग, 27 अक्टूबर (भाषा) चीन स्थित एशियाई अवसंरचना निवेश बैंक (आईआईबी) के साथ एशियाई विकास बैंक (एडीबी) भारत को कोविड-19 टीकों की खरीद को लेकर दो अरब डॉलर का कर्ज देने की प्रक्रिया में है।एआईआईबी के उपाध्यक्ष डी जे पांडियन ने मंगलवार को कहा कि कुल दो अरब डॉलर के कर्ज में मनीला स्थित एडीबी 1.5 अरब डॉलर देगा। जबकि एआईआईबी 50 करोड़ डॉलर उपलब्ध कराने पर विचार कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘एडीबी 1.5 अरब डॉलर वित्त उपलब्ध कराने को राजी हुआ है और एआईआईबी 50 करोड़ डॉलर का कर्ज देगा।’’ पांडियन ने कहा कि एआईआईबी निदेशक मंडलएडीबी, एआईआईबी कोविड टीकों की खरीद के लिये भारत को दो अरब डॉलर का कर्ज देंगे

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


ला लीगा फुटबॉल
भारत में निर्यात
lovebet एस्पोर्ट
खेल जी.के. सवालों के जवाब के साथ
क्लासिक रम्मी खेल नियम
रूले सर्कल
उत्पत्ति कैसीनो सूची
यमका एस्पोर्ट्स
क्रिकेट 2021 खेल
क्रिकेट चे नियम मराठी
दिन एस मशीनरी कैसीनो
गेम पॉइंट रम्मी क्लब
कैसीनो के खेल download
क्रिकेट निबंध अंग्रेजी में
10cric ऐप कस्टमर केयर नंबर
क्रिकेट रेडियो
सट्टेबाजी का मतलब (मीनिंग) अंग्रेजी (इंग्लिश) में जाने |
betway आवेदन
फुटबॉल ना
क्रिकेट एक्सबॉक्स
ऑनलाइन स्लॉट डाउनलोड
बेटा ट्रैक्टर
एक्स फुटबॉल जूते
लाइव रूले लॉबी
क्लासिक रम्मी असली है
ऑनलाइन मकाऊ कैसीनो Wynn Bo
ऑनलाइन कैसीनो एमआईटी पेसेफ